क्रिसमस के मौके पर एक बार फिर अतुल्य मुंगेर ने साबित किया इंसानियत से बड़ी कोई धर्म नहीं

क्रिसमस के मौके पर एक बार फिर अतुल्य मुंगेर ने साबित किया इंसानियत से बड़ी कोई धर्म नहीं

अतुल्य मुंगेर की टीम ने एक बार फिर से साबित कर दिखाया की मानवता ही सबसे बड़ी धर्म है।टीम के सदस्यों ने पिछले साल की पहल एक कपडा की लोकप्रियता को देखते हुए इस साल फिर से क्रिश्मस के मौके पर एक कपडा 2.0 कार्यक्रम को पिछले साल के मुताबिक और भी व्यापक तौर पर संपन्न किया गया।

टीम ने शहर के लोगो से अपील किया की ऐसे कपडे जो पहनने लायक तो है लेकिन अब वो उपयोग में नहीं है को टीम को सौप दे ताकि हम उन्हें उनलोगो तक पहुंचा सके जो की इस कड़ाके की ठण्ड में ठण्ड से लाचार होते है, शहर के लोग भी जरुरतमंदो की सहायता के लिए आगे आये और टीम के साथ मिल कर अपने क्रिश्मस को यादगार बनाया।

हमने शहर के झोपड़पट्टियों जैसे पूरबसराय,यादव छात्रावास के निकट, कृष्णापुरी,रेलवे स्टेशन के निकट, बस स्टैंड से होते हुए किला परिसर के लगभग 300 परिवारों के बीच गर्म कपडे और कम्बल का वितरण किया।

इतना ही नहीं टीम के सदस्य क्रिश्मस की शाम बच्चो के भी मन को हर्षित कर गए जब चॉकलेट से भरा डब्बा लेकर पार्क, चर्चो में, एवम सडको पर बच्चो को क्रिश्मस की बधाई के साथ चॉकलेट भेट किये बदले में बच्चो ने भी मैरी क्रिश्मस कहा और थैंक्यू भी कहा और इस तरह हमने इस क्रिश्मस को अपने साथ साथ बच्चो के लिए भी यादगार बनया।

इस कार्यक्रम को सफल बने हेतु सभी सदस्य कई दिनों से उत्साहित नज़र आ रहे थे।टीम के सदस्य राजेश, राकेश, सुमन, DSK, प्रेम, आयुष, हर्षवर्धन,आदर्श, हिमांशु, आशीष, नितीश, रौशन, पियूष, अंजनी, अभिषेक, राजीव, हर्ष, अमित, आमिर, रोबिन, मुकेश एवम अमन ने इसे सफलता पूर्वक संपन्न करने में अहम भूमिका निभाई।

इसके साथ ही अतुल्य मुंगेर इस कार्यंक्रम की सफलता का श्रेय इससे प्रत्यक्ष एवम अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े सभी कार्यकर्त्ता एवम समर्थको को देती है।

Facebook Comments

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: